सफर २०१९

A. Ashni
3 min readOct 6, 2022

मेट्रो में सफर कई तरह के होते है। एक सफर नई दिल्ली से जहांगीरपुरी तक।

एक सफर जनरल से लेडीज तक रेल की तरह रुक रुक कर चलना। जैसे वो प्लेटफार्म देख रुके वैसे भीड़ देख रुकना।
रुक रुक कर रुक रुक कर बैग के पाइयों से, जूतों से, बच्चों से बच कर रहना।

एक सफर खुशामदी का। दिल्ली पर मेट्रो अपना हक़ जताती है। एक के बाद एक कदम बढाती हैं, बढ़ाते बढ़ाते रास्तों पर पैर जमाती हैं और आसमान में अंगड़ाइयाँ लेती हैं।
मुझे हक़ जताना नहीं आता। मेट्रो की गरगराट ज़मीन के नीचे से गुज़रे, वैसे मैं “एक्सक्यूज़ मी…माफ़ कीजियेगा…एक सेकंड भैया” को एक डिब्बे से दुसरे डिब्बे तक खींच ले जाती हूँ। मेट्रो की तरबियत ना जाने किसने की होगी। उसने मेरी तरह भीड़ की नज़र से बचते सर झुकाए रखना नहीं सीखा।

एक सफर नज़रों का। लेडीज में बैठे ख़याल आता हैं कि सबके होंठ क्यों सिलें हैं? जनरल में बैठे ख़याल आता हैं कि सबके होंठ क्यों सिलें हैं। लेडीज में बैठे ख़याल आता हैं कि निगाह में आते ही मुँह मोड़ क्यों जाते हैं? जनरल में बैठे ख़याल आता हैं कि निगाह में आते ही मुँह मोड़ क्यों जाते हैं।
मकान जिसका तकसीम हुआ हो उसे पूछो — किस औलाद को कमरा नसीब हुआ और किस्से रसोईघर? कहते हैं खुदा कि हम दूसरी औलाद हैं — परचम नहीं परदे नसीब हुए। लेडीज में बैठे ख़याल आता हैं कि ये परदे हमें किन से छिपा रहे हैं? जनरल में बैठे ख़याल आता हैं कि ये परदे हमें किन से छिपा रहे हैं।

और एक सफर इख़लाक़ का। रिजर्व्ड सीट में बैठ कर आँखें बंद करो तो रिजर्व्ड चेहरे दिखाई नहीं देतें। थके हाथों पर तंग्ग अंगूठियां दिखाई नहीं देतीं। विरासत में पायी ये माथे पे शिकन दिखाई नहीं देतीं।
मेट्रो में बैठे आँख मुँह बंद रख कर सफर करती हूँ। अपने परदे को उठाना आता तो हैं मगर क्या करें, आदि हूँ।

metro mei.n saphar kai tarah ke hote.n hai. ek saphar Nai Dilli se Jahangirpuri tak.

ek saphar General se Ladies tak rail ki tarah ruk ruk kar chalna. jaise vo platform dekh ruke vaise bheed dekh rukna.
ruk ruk kar ruk ruk kar bag ke paiyon se, jooton se, bachchon se bach kar rahna.

ek saphar khushaamadi ka. Dilli par metro apna haq jataati hai. ek ke baad ek kadam badhaati hain, badhaate badhaate raasto.n par pair jamaati hain aur aasamaa.n mei.n angadaiyaa.n leti hai.n.
mujhe haq jataana nahi.n aata. metro ki garagaraat zameen ke neeche se guzre, vaise mai.n “excuse me…maaf keejiyega…ek second bhaiya” ko ek dibbe se dusre dibbe tak kheench le jaati hoo.n. metro ki tarbiyat na jaane kisne ki hogi. usne meri tarah bheed ki nazar se bachte sar jhukae rakhna nahi.n seekha.

ek saphar nazro.n ka. Ladies mei.n baithe khayaal aata hai ki sabke honth kyo.n sile.n hai.n? General mei.n baithe khayaal aata hai ki sabke honth kyo.n sile.n hai.n. Ladies mei.n baithe khayaal aata hai ki nigaah mei.n aate hi munh mod kyo.n jaate hai.n? General mei.n baithe khayaal aata hai ki nigaah mei.n aate hi munh mod kyo.n jaate hai.n.

makaan jiska takseem hua ho use poochho — kis aulaad ko kamra naseeb hua aur kisse rasoeeghar? kehte hai khuda ki ham doosri aulaad hai — parcham nahi.n parde naseeb hue. Ladies mei.n baithe khayaal aata hai ki ye parde hame.n kin se chhipa rahe hai.n? General mei.n baithe khayaal aata hai ki ye parde hame.n kin se chhipa rahe hai.n.

aur ek saphar ikhalaaq ka. reserved seat mei.n baith kar aankhen band karo to reserved chehre dikhai nahi.n dete.n. thake haatho.n par tangg angoothiyaa.n dikhai nahi.n detee.n. viraasat mei.n paayi ye maathe pe shikan dikhai nahi.n detee.n.
metro mei.n baithe aankh munh band rakh kar saphar karti hoo.n. apne parde ko uthaana aata to hai magar kya kare.n, aadi hoo.n.

--

--